lakadahaara aur paree kee kahani - लकड़हारा और परी की कहानी


24/03/2020 STORY HINDI STORY

 

lakadahaara kee kahani 

एक दिन पीटर नाम के लकड़हारे को खजाने से भरी एक गुफा मिली । अभी वह उस सोने को देख ही रहा था कि वहां नॉरविन नामक बौना आ गया । नॉरविन ने पीटर से पूछा , " तुम मेरी गुफा में क्या कर रहे हो ? " पीटर ने जवाब दिया , “ मुझे यह गुफा मिली है । अगर तुमने मुझे सोना नहीं दिया , तो मैं इस बारे में सबको बता दूंगा । " नॉरविन पीटर के साथ सोना बांटने के लिए तैयार हो गया । उसने उसे सोने से भरे दो थैले दिए ।

https://1.bp.blogspot.com/-fCgnn9AhNLo/Xm3KKF5D2OI/AAAAAAAAAEY/Md5CLLIM7s84UEs9_sVgmPNMp9Wg_FkBQCNcBGAsYHQ/s1600/PicsArt_03-02-03.03.14.webp

लेकिन पीटर बहुत लालची था । वह रात को गुफा में | चोरी करने जा पहुंचा । नॉरविन पहले से जानता था कि पीटर लालची आदमी है। और वह चोरी करने आ सकता है , इसलिए उसने जादू | से सोने को कोयले में बदल दिया । पीटर ने सोने को कोयले में बदला देखा , तो दंग रह गया । उसके कान बड़े होने लगे और वे जल्द ही उसके सिर से बड़े हो गए । पीटर बहुत डर गया । उसने वादा किया कि वह फिर कभी चोरी नहीं करेगा । नॉरविन ने उसे अपने जादू से मुक्त किया और पीटर अपने घर भाग गया ।

paree kee kahani

बहुत समय पहले की बात है - किसी गांव में एक निर्दयी बौना रहता था । वह अक्सर लोगों को चूहों में बदलकर उन्हें अपने पालतू सांपों को खिला देता था । सभी गांव वाले उससे बहुत डरते थे , इसलिए वे एक परी के पास मदद मांगने गए । परी ने अपने आपको एक नन्ही लड़की में बदल लिया और बौने के घर जा पहुंची । परी ने बौने से कहा , “ तुम मुझे भोजन देना , मैं तुम्हारे सब काम कर दिया करूंगी । " बौने ने हामी भर दी ।

एक दिन जब बौना घर पर नहीं था , तो परी को बोतल में बंद एक चूहा मिला । उसने उस चूहे को बोतल से निकाला , तो वह एक लड़के में बदल गया । फिर परी ने सीटी बजाई और वहां एक बाज उड़ता हुआ आ गया । परी ने बौने का सांप उसे खाने के लिए दे दिया । । जब बौना वापस आया , तो परी ने अपना जादू चला दिया । बौना एक मेढक में बदल गया । _ बौना परी के आगे गिड़गिड़ाने लगा । उसने वादा किया कि वह कभी किसी के साथ दुष्टता से पेश नहीं आएगा । तब परी ने उसे फिर से बौना बना दिया । गांव वाले खुशी - खुशी रहने लगे ।

 


Post Comments

Comments

© 2019-2020 Kahani99.com - All Rights Reserved | Visiter - web counter